दालों का राजा किसे कहते है? (Dalo ka Raja Kise Kahate Hain)

क्या आप दालों के राजा के बारें में जानना चाहते है? यदि हाँ तो आज मैं इस पोस्ट में बताने जा रहा हूँ कि दालों का राजा किसे कहते है? (Dalo ka Raja Kise Kahate Hain)

हम अपने घर में कई सारी दालें काम में लेते है लेकिन दालों के राजा के बारे में किसी को जानकारी नहीं है | आज हम दालों के राजा के नाम के साथ-साथ दालों के राजा कहने की वजह के बारे में जानने वाले है |

चलिए जानते है कि दालों का राजा कौन है?

dalo ka raja kise kahate hain

दालों का राजा किसे कहते है? (Dalo ka Raja Kise Kahate Hain)

आपने अपने घर में मूंग की दाल, अरहर की दाल, मसूर की दाल, चने की दाल, राजमा की दाल आदि खाई होगी | इन सभी दालों में से चने को दालों का राजा कहते है |

चने का वैज्ञानिक नाम साइसर एरिटिनम (Cicer arietinum) होता है | चने के दो भाग होते है जिन्हें पत्रक कहा जाता है | जब चने के दोनों भागों को अलग-अलग कर दिये जाता है तो इसे चने की दाल कहते है |

चने को पीसकर आटे के रूप में भी काम मे लिए जाता है | चने के आटे को बेसन कहते है जिसे भारत देश में कई सारे पकवान बनाए जाते है | बारिश के मौसम में खाये जाने वाले पकोड़े चने की दाल को पीसकर बेसन के द्वारा बनाए जाते है |

आपने छोले की सब्जी भी खाई होगी | यह छोले भी एक प्रकार का चना ही है | छोले को काबुली चने के नाम से भी जाना जाता है कि जिसकी सब्जी (चना मसाला) भारत में काफी प्रचलित है |

चने का सबसे ज्यादा उत्पादन भारत देश मे होता है |

यह भी पढे- दक्षिण भारत की गंगा किसे कहते है ?

चने के प्रकार

चना दो प्रकार का होता है-

  • देसी चना
  • काबुली चना

देसी चने का आकार छोटा होता है | इसका रंग गहरा भूरा होता है | इसकी सतह कठोर होती है |

काबुली चना देसी चने के बजाय आकार में थोड़े बड़े होते है | इनका रंग हल्का बादामी होता है | काबुली चने को छोले के नाम से भी जाना जाता है |

यह भी पढे- दालों की रानी किसे कहते हैं ?

चने खाने के फायदे

चने के निम्नलिखित फायदे है –

  • चने में फाइबर व प्रोटीन की भरपूर मात्रा होती है इसलिए चना ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में सहायता करता है |
  • चने के सेवन से पाचन तंत्र मजबूत होता है |
  • एक स्वस्थ ह्रदय के लिए भीगे हुए चने खाना फायदेमंद होता है |
  • काबुली चना खाने से हड्डियाँ मजबूत रहती है |
  • चने में आयरन की मात्रा होने की वजह से एनीमिया की बीमारी से निजात पाने में चना बहुत ही कारगर सिद्ध होता है |
  • गर्भवती महिलाओं को काबुली चने खाने से फोलिक तत्त्व की आपूर्ति होती है |
  • चना प्रोटीन का सबसे अच्छा श्रोत है | जिम में जाने वाले लोग अंकुरित व भीगे हुए चनों का सेवन करते है |

यह भी पढे- अंधभक्त किसे कहते है?

दाल का राजा कौन है?

चना |

दालों का राजा किसे कहते है?

चने को दालों का राजा कहते है |

दालों की रानी किसे कहते है?

मूंग को दालों की रानी कहते है |

अंतिम दो लाइन

मैंने आज इस पोस्ट में दालों का राजा किसे कहते है? (Dalo ka Raja Kise Kahate Hain) के बारे में विस्तार से बताया है | दालों के राजा के संबंध में यहाँ पर दी गयी जानकारी आपको पसंद आई होगी | आप कमेंट करने अपने विचार प्रकट कर सकते है |

Leave a Comment