ग्लोब किसे कहते हैं? (Globe Kise Kahate Hain)

क्या आप जानना चाहते है कि ग्लोब किसे कहते हैं? (Globe Kise Kahate Hain) यदि हाँ तो आप सही जगह पर आए है |

मैंने इस पोस्ट में ग्लोब क्या है, ग्लोब के प्रकार, ग्लोब के उपयोग आदि का विस्तृत से वर्णन किया है |

ग्लोब का संक्षिप्त इतिहास भी इस पोस्ट में बताया गया है |

मैं यह विश्वास दिलाता हूँ कि इस पोस्ट को पढ़ने के बाद ग्लोब के बारे में जानकारी हासिल कर लेंगे |

Globe Kise Kahate Hain

ग्लोब किसे कहते हैं? (Globe Kise Kahate Hain)

ग्लोब शब्द की उत्पति लैटिन भाषा के ग्लोबस शब्द से हुई है | ग्लोबस का अर्थ गोला होता है |

पृथ्वी का एक छोटा रूप, नमूना एवं मॉडल जिसमें अक्षांश एवं देशांतर रेखाओं सहित भौगोलिक जानकारी प्रदर्शित हो उसे ग्लोब कहते है |

ग्लोब पृथ्वी का लघु प्रतिरूप तथा गोलाकार मॉडल होता है |

अत: हम कह सकते है कि पृथ्वी के बनावटी रूप को किसी छोटे गोले पर बनाया गया जाए तो उसे ग्लोब कहा जाता है |

आपने स्कूल अथवा कॉलेज में ग्लोब जरूर देखा होगा | स्कूल में भूगोल पढ़ाते समय अध्यापक क्लास में ग्लोब लेकर आता है ताकि भूगोल के टॉपिक अच्छे से समझा सके |

पृथ्वी जिस प्रकार अपने अक्ष पर घूमती है उसी प्रकार ग्लोब में भी गोला घुमाया जा सकता है | यह केवल और केवल विद्यार्थियों को पृथ्वी की सरंचना को समझने के उद्देश्य के काम आता है |

ग्लोब शब्द का सबसे पहले प्रयोग स्ट्रेबो द्वारा किया गया | सबसे पुरानी ग्लोब मार्टिन बेहैम द्वारा बनाई गयी थी |

पुराने जमाने में ग्लोब को लड़की के एक गोले पर कागज के नक्शे को चिपकाकर बनाया जाता था | वर्तमान में अधिकतर ग्लोब थर्मोप्लास्टिक व मशीनों के द्वारा बनाए जाते है |

यह भी पढे- मानचित्र किसे कहते हैं ?

ग्लोब के प्रकार

सामान्यता ग्लोब दो प्रकार के होते है जो कि निम्नलिखित है –

  1. स्थलीय ग्लोब
  2. आकाशीय ग्लोब

स्थलीय ग्लोब (Terrestrial Globe)

वह ग्लोब जिसमें देश, राज्य व उसकी सीमाएं अंकित हो तथा साथ में नदियां, पहाड़, पर्वत आदि दर्शाए गए हो उसे स्थलीय ग्लोब कहते है |

स्थलीय ग्लोब ही स्कूलों व कॉलेजों मे दिखाया जाता है | फिर भी यहाँ पर स्थलीय ग्लोब की फोटो बताई जा रही है |

स्थलीय ग्लोब

आकाशीय ग्लोब (Celestial Globe)

वह ग्लोब जिसमें खगोलिय पिंडों की जानकारी दर्शाई गयी हो, उसे आकाशीय ग्लोब कहते है | इसका उपयोग अधिकतर उन लोगो द्वारा किया जाता है जो खगोलीय पिंडों के बारे में रुचि रखते है |

आकाशीय ग्लोब की फोटो नीचे बताई जा रही है |

आकाशीय ग्लोब

ग्लोब के उपयोग

मानव जीवन मेन ग्लोब के निम्नलिखित उपयोग है-

  • भूगोल की पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों के लिए ग्लोब वहुत उपयोगी है | ग्लोब के माध्यम से वे पृथ्वी की सरंचना, स्थिति, महासागर आदि के बारे में अच्छे से समझ सकते है |
  • एक देश के पड़ोसी देश कौन कौन-से है, के बारे में जानकारी पता करने के लिए ग्लोब अच्छा माध्यम है |
  • कोनसा-कोनसा किसे महादीप में स्थित है, आदि की जानकारी ग्लोब के द्वारा पता लगाई जाती है तथा सटीक जानकारी ग्लोब में उपलब्ध रहती है |
  • दुनिया में पायी जाने वाले नदियों की जानकारी ग्लोब में उपलब्ध रहती है |
  • पृथ्वी की भौगोलिक स्थिति की जानकारी के लिए ग्लोब बहुत उपयोगी है |

यह भी पढे- दक्षिण भारत की गंगा किसे कहते है ?

ग्लोब से संबन्धित पूछे जाने वाले प्रश्न व उत्तर

ग्लोब की परिभाषा क्या है?

पृथ्वी का एक छोटा रूप, नमूना एवं मॉडल जिसमें अक्षांश एवं देशांतर रेखाओं सहित भौगोलिक जानकारी प्रदर्शित हो उसे ग्लोब कहते है |

ग्लोब कितने प्रकार के होते है?

ग्लोब दो प्रकार के होते है |
01. अस्थलीय ग्लोब
02. आकाशीय ग्लोब

ग्लोब और पृथ्वी में क्या अंतर है?

ग्लोब पृथ्वी का छोटा मॉडल है | पृथ्वी के रूप को किसी गोले पर बनाया गया मॉडल ग्लोब होता है |

अंतिम दो शब्द

आज आपने इस पोस्ट में जाना कि ग्लोब किसे कहते हैं? (Globe Kise Kahate Hain)

साथ ही ग्लोब के प्रकार, ग्लोब के उपयोग के बारे से जानकारी हासिल की है | यह जानकारी आपके जरूर काम आएगी |

Leave a Comment